Home > Current Affairs > State > VP Jagdeep Dhankhad Visited Lohargal Sun temple in Rajasthan

उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने राजस्थान के लोहार्गल सूर्य मंदिर का दौरा किया

Utkarsh Classes 28-08-2023
VP Jagdeep Dhankhad Visited Lohargal Sun temple in Rajasthan Rajasthan 7 min read

उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने 27 अगस्त को राजस्थान के झुंझुनू जिले के लोहार्गल धाम में सूर्य मंदिर में पूजा की।

मंदिर के दौरे के बाद, उपराष्ट्रपति का झुंझुनू में रानी सती मंदिर में पूजा करने और सैनिक स्कूल में एक कार्यक्रम को संबोधित करने का कार्यक्रम है।

झुंझुनू के लोहार्गल सूर्य मंदिर के बारे में

यह मंदिर राजस्थान के झुंझुनू जिले में स्थित है। यहां मंदिर के सामने एक प्राचीन पवित्र सूर्य कुंड है।

ऐसा माना जाता है कि यहां स्नान करने के बाद ही पांडवों को महाभारत युद्ध में अपने रिश्तेदारों की हत्या के पाप से मुक्ति मिली थी और उनकी भुजाएं यहीं के सूर्यकुंड में लिपटी थीं। लोहार्गल का अर्थ है वह स्थान जहाँ लोहा पिघलाया जाता है।

राजस्थान में विभिन्न सूर्य मंदिर

रणकपुर सूर्य मंदिर

  • सूर्य नारायण को समर्पित, 15वीं शताब्दी के दौरान बनाया गया मंदिर और नागर शैली के मंदिर।
  • यह उदयपुर से लगभग 95 किमी दूर स्थित है और रणकपुर के जैन मंदिरों के पास स्थित है।

सूर्य मंदिर, झालरापाटन

  • राजस्थान के कोणार्क मंदिर का निर्माण नाग भट्ट द्वितीय ने लगभग 815 ई. में करवाया था। जेम्स टॉड ने चतुर्भुज मंदिर का नाम दिया।
  • मंदिर के कुछ अन्य नाम पद्मनाभ मंदिर या सात सहेलियों का मंदिर भी हैं।

देवका सूर्य मंदिर, बाड़मेर

  • 12वीं शताब्दी में निर्मित, यह भगवान शिव, कुबेर और विष्णु के कई अन्य मंदिरों का भी घर है। मंदिर पंचायतन शैली में बनाया गया है, केंद्र में एक मुख्य मंदिर है जिसके बाद कोनों पर चार छोटे मंदिर हैं। मंदिर में मंदिर पांड, गोख और मकर तोरण है।

सूर्य मंदिर गलता, जयपुर

  • मंदिर की स्थापना जयपुर के सवाई जय सिंह ने की थी। इस मंदिर में भगवान सूर्य की कोई मूर्ति नहीं है। उसकी जगह एक बड़ी तस्वीर लगाई गई है.
  • वर्तमान में इसकी पूजा की जाती है। दरअसल, पहले यहां भगवान सूर्य देव की अष्टधातु से बनी आठ इंच की आकर्षक मूर्ति स्थापित थी। वर्ष 1979 में अज्ञात लोगों ने पुजारी की हत्या कर दी और यहां से इस दुर्लभ मूर्ति को चुरा लिया।
  • यहां माघ माह की शुक्ल सप्तमी को सूर्य सप्तमी का त्योहार मनाया जाता है।

सूर्य मंदिर, ओसियां

  • ओसियां ​​में वैष्णव मंदिरों से थोड़ी दूरी पर सूर्य मंदिर बना हुआ है, जिसमें एक गर्भगृह, अंतराल, खुला प्रदक्षिणा पथ, सभा मंडप और द्वार मंडप हैं।
  • उपलब्ध साक्ष्यों से पता चलता है कि यह भी पंचायतन प्रकार का मंदिर रहा होगा।

बूढ़ादीत का सूर्य मंदिर, कोटा

  • बूढ़ादीत का सूर्य मंदिर कोटा जिले में सुल्तानपुर के पास स्थित है। पुरातत्व एवं संग्रहालय विभाग के अधीन यह मंदिर 9वीं-10वीं शताब्दी पुराना है। यह कलात्मक, शिल्प-संपन्न हाड़ौती क्षेत्र के सबसे पुराने सूर्य मंदिरों में से एक है। पूर्वाभिमुख शिखरबंध बूढ़ादित मंदिर में पंचायतन शैली के मंदिर में एक गर्भगृह और एक महामंडप है।

सूर्य मंदिर, आमेर जयपुर

  • मंडप के सामने की पंक्ति में एक स्तंभ पर विक्रम संवत 1011 (ए.डी. 954) का एक शिलालेख भी है।
  • यह प्रसिद्ध सूर्य मंदिर शहर के पश्चिम की ओर आमेर पहाड़ी की ढलान पर दक्षिण-पूर्व की ओर स्थित है। इसमें एक वर्गाकार गर्भगृह, एक गलियारा और स्तंभयुक्त मंडप हैं।

सूर्य मंदिर टूस, उदयपुर

  • दसवीं सदी के मध्य में सूर्य देव का यह मंदिर उदयपुर से लगभग 20 मील (32 किमी) पूर्व में चित्तौड़गढ़ की सड़क पर 'टूस' गांव में स्थित है।
  • महा-गुर्जर शैली में बने इस मंदिर की मूल अधिरचना लुप्त हो गई है। ऐसा प्रतीत होता है कि तुस का सूर्य मंदिर सौर संप्रदाय की विशेष पूजा के लिए बनाया गया था, क्योंकि पूरे मंदिर में किसी अन्य देवता की नक्काशी नहीं की गई है।

सूर्य मंदिर, मंदेसर, उदयपुर

  • उदयपुर के महाराणा प्रताप हवाई अड्डे के पास मंदेसर गांव में एक सूर्य मंदिर भी है।
  • यह पूर्वमुखी मंदिर नागर शैली में तीन स्तरों पर बना है - प्रवेश मंडप, सभा मंडप और गर्भगृह।

चित्तौड़ का कालिका मंदिर

  • चित्तौड़गढ़ किले में स्थित कालिका मंदिर वास्तव में आठवीं शताब्दी का सूर्य मंदिर है, जिसे अब कालिका माता मंदिर कहा जाता है।
  • यह मंदिर चित्तौड़गढ़ किले के दक्षिणी भाग में जयमल और पत्ता की हवेलियों के दक्षिण में स्थित है।

 

 

FAQ

उत्तर। झुंझुनूं

उत्तर। सवाई जय सिंह
Leave a Review

Today's Article

Utkarsh Classes
DOWNLOAD OUR APP

Download India's Best Educational App

With the trust and confidence that our students have placed in us, the Utkarsh Mobile App has become India’s Best Educational App on the Google Play Store. We are striving to maintain the legacy by updating unique features in the app for the facility of our aspirants.