अपने आप को परीक्षा के लिए मानसिक रूप से कैसे तैयार करें ?

  • utkarsh
  • Feb 24, 2021
  • 0
  • Blog, Blog Hindi, Competitive Exam,
अपने आप को परीक्षा के लिए मानसिक रूप से कैसे तैयार करें ?

परीक्षा वह समय होता है जब आप दबाव में होते हैं। वैकल्पिक रूप से, इस समय के दौरान, आपके दिमाग को सीखने और याद रखने पर ध्यान केंद्रित करने के लिए आराम करने की आवश्यकता होती है। तनाव में सोना मुश्किल हो सकता है, लेकिन आपको सुबह उठने और अपनी परियोजनाओं को पूरा करने के लिए अच्छी नींद लेने की जरूरत है। जिस तरह से आप सोचते हैं – आपकी मानसिकता, आपके आस-पास की हर चीज को प्रभावित कर सकती है, परन्तु आप इनकी प्रतिक्रिया करते हैं, इससे आपके जीवन में बहुत कुछ बदल सकता है। इसलिए अपने जीवन में आने वाली चुनौतियों को सकारात्मक दृष्टिकोण के साथ स्वीकार करें।

एकाग्रता से की गई तैयारी

परीक्षा की तैयारी छात्रों के लिए सबसे महत्वपूर्ण समय है। उन्हें परीक्षा में उत्तीर्णता प्राप्त करने के लिए थोड़ा सा बदलाव करने की आवश्यकता होती है। परीक्षा की तैयारी के दौरान की गई कड़ी मेहनत और प्रयासों से परिणाम हासिल होता है, इसलिए छात्रों का ध्यान शुरू से ही तेज और स्पष्ट होना चाहिए।

  • शांत रहो – मन को शांत रखो और परिणामों के बारे में अधिक मत समझो।
  • रिवाइज – किसी विषय में महारत हासिल करने के लिए महत्वपूर्ण है प्रैक्टिस करना, और नियमित रूप से रिवीजन करना । 
  • आसान विषयों पर काम करें – शुरुआत में कठिन सवालों का अभ्यास न करें, पहले बुनियादी बातों पर काम करें और फिर स्तर ऊपर करे।

अपने खुद के मूल्यांकनकर्ता बनें

आत्मविश्वास प्राप्त करने के लिए आत्म-मूल्यांकन एक महत्वपूर्ण कदम है। छात्रों को मॉक टेस्ट का अभ्यास करना चाहिए और नियमित रूप से अपने प्रदर्शन का आकलन करना चाहिए। इस तरह, छात्र अपने प्रदर्शन का रिकॉर्ड बनाए रख सकते हैं और किसी भी समस्या ग्रस्त क्षेत्र पर अधिक काम कर सकते हैं।

नियत दिनचर्या

यदि आप परीक्षा की तैयारी करते समय एक सख्त समय सारिणी नहीं बनाए रखते हैं, तो आप अपना बहुमूल्य समय बर्बाद कर सकते हैं। 

दिशाहीन तैयारी आपको कोई लाभ नहीं पहुँचाएगी, और यह आपके काम को ख़राब सकती है। तो, एक समय सारिणी बताएं जिससे आप दिन का सबसे अधिक लाभ उठा पाए। समय सारिणी में आपकी दैनिक परियोजना और अतिरिक्त गतिविधियाँ शामिल होनी चाहिए ताकि आप अपनी पढ़ाई के लिए अधिकतम समय बचा सकें।

आराम करने का समय

अधिकांश छात्र यह सोचकर आराम करने से बचते हैं कि यह समय की बर्बादी है। यहा कई छात्र गलत हो जाते हैं और अंत में तनाव ग्रस्त पाए जाते है। कोई भी शारीरिक गतिविधि नहीं करने से वे अपनी मानसिक क्षमता को पूरी तरह से भस्म कर रहे हैं। रचनात्मक रूप से सोचने के लिए आपका दिमाग विश्राम की मांग करता है, इसलिए, छात्रों को बेहतर फोकस और एकाग्रता के साथ पढ़ाई करने के लिए पर्याप्त समय खेल कूद को देना चाहिए।

हेल्दी माइंडसेट के लिए अच्छी आदतें

जीवन के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण रखें।परन्तु, यह इस तथ्य से इनकार नहीं करता है कि जीवन के प्रति सकारात्मकता रखने के लिए बुनियादी तोर पर अत्यंत प्रयासों आवश्यकता होती है। बस अपने दैनिक जीवन में अच्छी आदतों को अपना ना शुरू करें; अच्छी आदतें कोई भी हो सकती हैं। यह खेल, पेंटिंग, खाना बनाना, पढ़ना या कुछ भी हो सकता है जो आपके मन को प्रफुल्लित कर दे। आप दिन में कुछ मिनटों के लिए ध्यान और प्रार्थना कर सकते हैं; ये सभी अभ्यास छात्रों को एक सकारात्मक दृष्टिकोण दे सकते हैं।

खुद पर अत्यंत बोझ ना डाले

तैयारी करते समय, छात्रों को अक्सर पाठ्यक्रम और विषयों के बारे में सोचा जाता है। यह तब हो सकता है जब छात्र अपनी तैयारी को सही दिशा में व्यवस्थित करने में असमर्थ होते हैं। चिंता मत करो और इसके प्रति कुछ ठोस कार्यों के साथ शुरू करो। कभी-कभी छात्र स्थिति को पलट देते हैं, और यह चिंता और तनाव का कारण बनता है।

दूसरों के साथ खुद की तुलना न करें

परीक्षा चुनौती पूर्ण है, इसलिए तैयारी करते समय, छात्र स्वाभाविक रूप से अपनी तुलना साथी छात्रों से करने लगते हैं। यह तैयारी में अनावश्यक तनाव लता है और ध्यान भी भटकता है इसलिए, अपनी तुलना दूसरों से न करें। खुद की तुलना अपने पिछले रिकॉर्ड से करे और  स्वयं के प्रदर्शन को बेहतर करने की कोशिश करे, इससे आत्म-मूल्यांकन होता है।

परीक्षा की तैयारी एक बड़ा तनावपूर्ण विषय हो सकता है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि इससे निपटा नहीं जा सकता। बस अपने जीवन में छोटे-छोटे बदलाव करके आप सकारात्मकता को बढ़ावा दे सकते हैं। यह समझना महत्वपूर्ण है कि किसी के प्रदर्शन का स्तर हमेशा ऊचा नहीं होगा; इसमें उतार-चढ़ाव होंगे। यह पुरे तरीके से इस बात पर निर्भर करता है कि व्यक्ति इसे संभालना कैसे है। तैयारी के दौरान सकारात्मक दृष्टिकोण से छात्र का संपूर्ण विकास हो सकता है और इसलिए, परीक्षा से निपटने के लिए सही मानसिकता महत्वपूर्ण है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.