कौनसे हैं वो १० गुण जो हर आईएएस अभ्यर्थी में होने आवश्यक हैं ?

  • utkarsh
  • Mar 04, 2021
  • 0
  • Blog, Blog Hindi, UPSC,
कौनसे हैं वो १० गुण जो हर आईएएस अभ्यर्थी में होने आवश्यक हैं ?

भारतीय प्रशासनिक सेवा में नौकरी पाना भारत के अधिकांश युवाओं के लिए एक सपना है। एक आईएएस अधिकारी के रूप में आप केवल आकर्षक वेतन ही नहीं पाते बल्कि यह आपको उच्च सामाजिक प्रतिष्ठा और कईं लाभों का हकदार भी बनता है। यह आपको देश और समाज में सकारात्मक परिवर्तन लाकर राष्ट्र की सेवा करने का अवसर देता है।

जैसा कि कहा जाता है, ‘ महान शक्तियों के साथ महान जिम्मेदारियां भी आती हैं ‘ ; IAS अधिकारी बनना एक बहुत बड़ी जिम्मेदारी है। जो उम्मीदवार IAS अधिकारी के रूप में पदस्थापित होता है, उन्हें IAS अधिकारी के रूप में अपने पद का औचित्य साबित करने के लिए कुछ विशेष गुण होना आवश्यक है।

इस लेख में, हम उन सभी गुणों के बारे में चर्चा करेंगे, जिन्हें IAS अधिकारी बनकर भविष्य के राष्ट्र निर्माता बनने की इच्छा रखने वाले सभी उम्मीदवारों द्वारा सम्मानित किया जाना चाहिए। ये गुण सिर्फ IAS अधिकारियों के लिए ही नहीं हैं, बल्कि उन सभी लोगों के लिए भी हैं जो एक अनुकरणीय और सदाचारी जीवन जीना चाहते हैं।

  1. निष्ठा

एक IAS आकांक्षी में समर्पण सबसे महत्वपूर्ण गुण है। IAS अधिकारी बनने की यात्रा – पहले प्रारंभिक परीक्षा की तैयारी , फिर मुख्य परीक्षा, और अंत में साक्षात्कार के लिए कई वर्षों तक लगातार निष्ठावान रहना काफी काठी हो सकता है। यह लम्बी यात्रा थका देने वाली और मानसिक रूप से तनावपूर्ण हो सकती है, लेकिन केवल समर्पण के माध्यम से कोई भी व्यक्ति इस पथ पर चल सकता है और अपने लक्ष्य तक पहुंच सकता है। 

  1. समझने की क्षमता

एक IAS आकांक्षी के पास बेहतरीन समझने की क्षमता होनी चाहिए। समझने की क्षमता का तात्पर्य है कि आप जिस विषय का अध्ययन कर रहे हैं उसे जल्दी से समझ सकें और उसे लंबे समय तक अपनी मेमोरी में बनाए रख सकें। सिर्फ इतना ही नहीं, बल्कि आपको अपनी परीक्षा के दौरान उस जानकारी को याद रखने और उसका उपयोग करने में भी सक्षम होना चाहिए। आप ध्यान का अभ्यास कर सकते हैं क्योंकि यह आपकी समझने की क्षमता को बढ़ाने में काफी मदद कर सकता है।

  1. संचार कौशल

यह एक ऐसा कौशल है जो न केवल IAS अधिकारी बनने के सफर में बल्कि आपके जीवन के सभी क्षेत्रों में आपकी मदद करेगा। यदि आपको लगता है कि आप अपने विचारों को लोगों के सामने प्रस्तुत करने में या दर्शकों के सामने आत्मविश्वास से बोलने में अच्छे नहीं हैं, तो जल्द से जल्द इस पहलू पर काम करना शुरू करें। एक IAS अधिकारी होने के नाते, आपको कई लोगों के साथ के साथ बातचीत करनी, जिससे यह कौशल अति-आवश्यक हो जाएगा।

  1. लेखन कौशल

IAS अधिकारी बनने की यात्रा में सबसे बड़ी बाधा है, मुख्य परीक्षा। यह एक व्यक्तिपरक पेपर है जहाँ आपसे बहुत कुछ लिखने की अपेक्षा की जाती है जो आपके लेखन कौशल को सीधे IAS परीक्षा में आपकी सफलता के समानुपाती बनाता है। यदि आपको लगता है कि आप लेखन में कमजोर हैं, तो आप दैनिक अभ्यास करके इसे आसानी से सुधार सकते हैं। कई आईएएस ऑनलाइन कोर्स हैं  जो आपको आपके लेखन कौशल में सुधार करने में मदद कर सकते हैं।

  1. ईमानदारी

यह एक ऐसा कौशल है जिसे कोई भी IAS कोचिंग आपको नहीं सिखा सकता है। स्वयं के साथ-साथ दूसरों के साथ ईमानदार होना बहुत महत्वपूर्ण है। एक IAS अधिकारी से यह अपेक्षा की जाती है कि वह सदाचार के रहे और नैतिक रूप से कुछ गलत न करे। इस मामले में, ईमानदारी सभी गुणों और कौशल से ऊपर है। इसी तरह, यदि आप खुद के प्रति ईमानदार नहीं हैं, तो आप कभी भी अपनी कमजोरियों की पहचान नहीं कर पाएंगे और इस तरह उन्हें सुधारने पर काम नहीं करेंगे।

  1. जिज्ञासा

जिज्ञासु शब्द का अर्थ है नई चीजों को जानने के लिए उत्सुक और तत्पर होना। ज्ञान की भूख आपको IAS परीक्षा की यात्रा में बहुत दूर ले जा सकती है। उदाहरण के लिए , यदि आप अखबार में दक्षिण अफ्रीका विवाद के बारे में पढ़ते हैं , तो आपको कारण और विवाद के इतिहास , विश्व राजनीति पर इसके प्रभाव आदि के बारे में जानने के लिए उत्सुक होना चाहिए । बस अखबार पढ़ना वर्तमान प्रवृत्ति में पर्याप्त नहीं होगा। 

  1. नेतृत्व

एक IAS अधिकारी सरकार और नागरिकों के बीच सेतु का काम करता है; वह लोगों के बीच सरकार का प्रतिनिधित्व करता है। अपने पद पर होते हुए, उन्हें उत्कृष्ट नेतृत्व कौशल का प्रदर्शन करना चाहिए। उन्हें अपनी टीम को देश के लोगों के लिए बेहतर करने के लक्ष्य की ओर ले जाने में सक्षम होना चाहिए। यह सब तभी किया जा सकता है जब किसी व्यक्ति में महान नेतृत्व क्षमता हो।

  1. देश प्रेम

राष्ट्र की सेवा करने और देश के हित से ऊपर कुछ भी नहीं होने की भावना हमेशा एक आईएएस अधिकारी के दिमाग में होनी चाहिए। एक आईएएस अधिकारी एक निस्वार्थ सैनिक की तरह होता है जो अपने राष्ट्र की ताकत और प्रतिष्ठा पर अपने कार्यों के प्रभावों को हमेशा मापता है।

  1. शारीरिक फिटनेस

स्वस्थ होना IAS परीक्षा की तैयारी करते समय एक उम्मीदवार की सबसे महत्वपूर्ण संपत्ति है। अपने शेड्यूल में उन आदतों को शामिल करने की कोशिश करें जो आपकी शारीरिक फिटनेस के साथ-साथ आपके मानसिक स्वास्थ्य को भी बढ़ावा दें। एक स्वस्थ आहार और पर्याप्त व्यायाम दो महत्वपूर्ण कारक हैं जो आपको स्वस्थ रखेंगे और आपको अपने सपने की दिशा में लगातार काम करने के लिए आवश्यक ऊर्जा और शक्ति प्रदान करेंगे।

  1. काम की नैतिकता

एक IAS अधिकारी को अपने काम और जिम्मेदारियों के प्रति अनुकरणीय नैतिकता होनी चाहिए । कार्य नैतिकता का अर्थ है अपने कार्यस्थल पर ईमानदार और गुणी होना। एक आईएएस अधिकारी से कार्यालय समय का सम्मान करने, व्यक्तिगत लाभ के लिए अपनी शक्तियों का और पद का उपयोग नहीं करने, अत्यंत समर्पण के साथ काम करने, तथा निष्पक्ष होने की उम्मीद की जाती है। काम की नैतिकता आपको काम में बेहतर होने में मदद करती है और दूसरों के सामने आपको एक उदाहरण के रूप में स्थापित करती है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.