विजय दिवस

  • utkarsh
  • Dec 16, 2020
  • 0
  • Blog Hindi, Current Affairs,
विजय दिवस

चर्चा में क्यों

प्रत्येक वर्ष 16 दिसंबर को विजय दिवस मनाया जाता है।

इस युद्ध के दौरान प्रमुख पदों पर :

•             भारतीय राष्ट्रपति –  वी.वी. गिरी

•             भारतीय प्रधानमंत्री – इंदिरा गाँधी

युद्ध स्थान : 

•             पूर्वी फ़्रण्ट : (भारत-बांग्लादेश सीमा) बंगाल की खाड़ी, पाशा एन्क्लेव।

•             पश्चिमी फ़्रण्ट : भारत-पाकिस्तान (LOC) तथा अरब सागर।

(भारतीय सेनाओं ने पश्चिमी सीमा पर लगभग 5,795 वर्ग मील भूमि अधिग्रहीत कर ली थी, जिसे शिमला समझौते, के अंतर्गत पाकिस्तान को पुनः लौटा दी।)

मुख्य बिंदु

•             बांग्लादेश का पाकिस्तानी सेना के खिलाफ यह संघर्ष 25मार्च 1971 से ही शुरू हो चुका है

•             इस युद्ध की सफलता बांग्लादेश के लिए मुक्ति की घोषणा थी इसलिए वहां इस दिन को मुक्ति दिवस या स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाया जाता है

•             3 जुलाई, 1972 के शिमला समझौते के तहत इन पाक सैनिकों को आजाद किया गया था ।

•             16 दिसंबर 1971, पाकिस्तान के करीब 93,000 सैनिकों ने आत्मसमर्पण किया और भारत ने युद्ध जीत लिया।

•             भारतीय सेना रणनीति के साथ बांग्लादेश की सीमा में घुसी और लगभग 15 हजार किलोमीटर के दायरे को अपने कब्जे में ले लिया।

•             16, दिसंबर साल 1971 में बांग्लादेश, पाकिस्तान से अलग हुआ था।

•             1971 का युद्ध भारत और पाकिस्तान के बीच एक सैन्य संघर्ष  था।

•             30 दिसंबर तक दोनों देशों का सैन्य संघर्ष निर्णायक मोड पर आ चुका है।

•             इस दिन को ‘मुक्ति दिवस‘ या ‘स्वतंत्रता दिवस’ के रूप में मनाया जाता है।

•             इस युद्ध की सफलता बांग्लादेश के लिए मुक्ति की घोषणा थी इसलिए वहां इस दिन को ‘मुक्ति दिवस‘ या ‘स्वतंत्रता दिवस’ के रूप में मनाया जाता है।

सारांश्

युद्ध के बाद पूर्वी पाकिस्तान से “बांग्लादेश” का उदय।

Leave a Reply

Your email address will not be published.