ठाकरेज कैट स्नेक

ठाकरेज कैट स्नेक

ठाकरेज कैट स्नेक

 क्या है खबर?

  • महाराष्ट्र के पश्चिमी घाट में सांपों की एक नयी प्रजाति मिली है जिसका नाम शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के छोटे पुत्र तेजस ठाकरे के नाम पर रखा गया है। इस सर्प प्रजाति की खोज में तेजस का काफी योगदान रहा है इसीलिए नई प्रजाति का नाम ‘ठाकरेज कैट स्नेक’ (वैज्ञानिक नाम बोइगा ठाकरेयी) रखा गया है।
  • पुणे स्थित जैव विविधता संरक्षण फाउंडेशन के निदेशक वरद गिरि ने बताया है कि सांपों की यह प्रजाति आम भाषा में ‘बिल्ली सांप कहे जाने वाले सांपों की श्रेणी में आती है और ‘बोइगा वंश से ताल्लुक रखती है। प्रजाति पश्चिमी महाराष्ट्र में सतारा जिले के कोयना क्षेत्र में मिली थी।
  • हाल ही में सर्प प्रजातियों के वर्णन वाला एक शोध पत्र बॉम्बे नेचुरल हिस्टरी सोसाइटी पत्रिका में प्रकाशित हुआ है हालांकि इस वंश के सांप पूरे भारत में पाए जाते हैं, लेकिन इसकी कुछ प्रजातियां पश्चिमी घाट तक सीमित हैं।
  • तेजस ठाकरे ने इस प्रजाति को पहली बार 2015 में देखा था और इसके व्यवहार का विस्तारपूर्वक अध्ययन किया था इसके बाद उन्होंने यह ब्योरा जैव विविधता संरक्षण फाउंडेशन को सौंपा था जिसने आगे के शोध में वैज्ञानिकों की मदद की थी।

बॉम्बे नेचुरल हिस्टरी सोसाइटी (BHNS)

  • बीएनएचएस की स्थापना भारत की आजादी से पहले 15 सितम्बर 1883 में की गई थी। प्राकृतिक विरासत का संरक्षण करना, जीवों और प्रकृति से जुड़े शोध और बच्चों एवं युवाओं में अपने आस-पास के पर्यावरण को लेकर जागरूकता फैलाना बीएनएचएस के मुख्य कार्य हैं।
  • इसका मुख्यालय मुंबई के हार्नबिल हाउस में स्थित है। यह जर्नल ऑफ़ बॉम्बे नेचुरल हिस्ट्री सोसाइटी नामक पतिरका का प्रकाशन भी करता है। विज्ञान व तकनीक मंत्रालय द्वारा इसे ‘वैज्ञानिक व औद्योगिक अनुसन्धान संगठन’ के रूप में इसे चिह्नित किया गया है।

No Comments

Give a comment