सुप्रीम कोर्ट में चार नए न्यायाधीशों की नियुक्ति – Utkarsh Classes

सुप्रीम कोर्ट में चार नए न्यायाधीशों की नियुक्ति

सुप्रीम कोर्ट में चार नए न्यायाधीशों की नियुक्ति

क्या है खबर

  • राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सुप्रीम कोर्ट में चार नए जजों की नियुक्ति कर दी है। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट में जजों की संख्या 34 हो गई है जो अब तक की सर्वाधिक संख्या है।
  • हरियाणा हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस कृष्ण मुरारी, हिमाचल प्रदेश के चीफ जस्टिस वी. रामासुब्रमण्यन, राजस्थान हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस एस. रवींद्र भट्ट तथा केरल हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस हृषिकेश रॉय को सुप्रीम कोर्ट में जज नियुक्त किया गया है।
  • केंद्र सरकार द्वारा हाल ही में सुप्रीम कोर्ट में बढ़ाए गए पदों के साथ ही जजों की सेवानिवृति से रिक्त हुए पदों पर इन 4 नए जजों की नियुक्ति की गई है। पहले सुप्रीम कोर्ट में जजों की संख्या 31 थी, जिसे केंद्र सरकार ने हाल में बढ़ाकर 34 कर दी थी, जिसमें चीफ जस्टिस भी शामिल हैं।
  • इस महीने की शुरुआत में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सुप्रीम कोर्ट में जजों की संख्या 31 से बढ़ाकर 34 करने के विधेयक पर हस्ताक्षर किया था राष्ट्रपति कोविंद के हस्ताक्षर के बाद इस संबंध में 12 अगस्त को राजपत्र भी जारी कर दिया गया था।
  • सुप्रीम कोर्ट में जजों की कुल संख्या 10 फीसद बढ़ाए जाने का विधेयक संसद ने पिछले दिनों पारित कर दिया था इस विधेयक में चूंकि जजों की बढ़ी हुई संख्या के मुताबिक सरकारी खजाने से धन आवंटित कराना भी था, इस कारण वित्त विधेयक के रूप में भी संसद की दोनों सदनों से पारित किया गया था।

क्यों की है बढ़ोतरी?

  • हाल ही में सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने न्यायालय में न्यायाधीश की बढ़ोतरी के लिए केन्द्र सरकार से सिफारिश की थी।
  • सर्वोच्च न्यायालय में हाल के समय में वादों की संख्या में इजाफा देखा गया है। कानून मंत्रालय ने हाल ही में राज्यसभा में एक प्रश्न का उत्तर देते हुए बताया था कि सर्वोच्च न्यायालय में 59,331 वाद लंबित है।
  • मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने कहा था कि जजों की कमी होने से कई बार महत्त्वपूर्ण मामलों में संवैधानिक पीठ का निर्माण नहीं पाता है।
  • 1988 में सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीशों की संख्या को 18 से बढ़ाकर 26 कर दिया था, 2009 में 26 से बढ़ाकर न्यायाधीशों की संख्या को 31 (मुख्य न्यायाधीश सहित) कर दिया था।

कैसे होती है सर्वोच्च न्यायालय में न्यायाधीशों की नियुक्ति ?

  • सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीशों की नियुक्ति संविधान के अनुच्छेद 124 (2) के तहत् राष्ट्रपति द्वारा की जाती है।
  • कॉलेजियम से सिफारिश प्राप्त होने के बाद कानून एवं विधि मंत्री प्रधानमंत्री को सिफारिश से अवगत कराता है।
  • प्रधानमंत्री के पास सिफारिश आने पर प्रधानमंत्री द्वारा राष्ट्रपति को न्यायाधीशों की नियुक्ति की सलाह दी जाती है।
  • प्रधानमंत्री द्वारा कॉलेजियम (किसी न्यायाधीश की नियुक्ति के संबंध में) सिफारिश को पुनर्विचार हेतु लौटाया जा सकता है।
  • यदि कॉलेजियम पुन: उसी नाम की सिफारिश करता है तो प्रधानमंत्री राष्ट्रपति को सिफारिश करने के लिए बाध्य है किन्तु इसकी कोई समय सीमा नहीं है।

No Comments

Give a comment