ओपन वाटर राफ्टिंग एक्सपीडिशन- गंगा आमंत्रण अभियान

ओपन वाटर राफ्टिंग एक्सपीडिशन- गंगा आमंत्रण अभियान

क्या है खबर ?

  • केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्‍द्र सिंह शेखावत ने Open Water Rafting Expedition – गंगा आमंत्रण अभियान का शुभारंभ किया।
  • गंगा नदी से सम्‍बद्ध विभिन्‍न पक्षों को आपस में जोड़ने के लिए यह विशेष कार्यक्रम 10 अक्टूबर से 11 नवंबर तक चलेगा।

गंगा आमंत्रण अभियान

  • इस कार्यक्रम का आयोजन नमामि गंगे के तहत किया जा रहा है । यह अभियान देव प्रयाग से शुरु होकर गंगा सागर में सम्‍पन्‍न होगा।
  • इस दौरान उत्‍तराखण्‍ड, उत्‍तर प्रदेश, झारखण्‍ड, बिहार और पश्चिम बंगाल में गंगा नदी के 2500 किलोमीटर से अधिक भाग में खोज अभियान चलाया जाएगा।
  • इस अभियान में तीनों सेनाओं सहित NDRF , भारतीय वन्‍य जीव संस्‍थान और CSIR के अंतर्गत भारतीय विष विज्ञान अनुसंधान संस्‍थान के तैराक और राफ्टर भी भाग  लेंगे।
  • इस अभियान के दौरान विभिन्न स्‍वच्‍छता अभियान आयोजित किए जाएंगे जिनके माध्यम से विद्यार्थियों के साथ नदी संरक्षण के संदेश के बारे में विचार-विमर्श किया जाएगा।

नमामि गंगे मिशन क्या है ?

  • वर्ष 2014 में न्यूयॉर्क में मैडिसन स्क्वायर गार्डन में भारतीय समुदाय को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था “अगर हम गंगा को साफ करने में सक्षम हो गए तो यह देश की 40 फीसदी आबादी के लिए एक बड़ी मदद साबित होगी”, इसी सोच को कार्यान्वित करने के उद्धेश्य से केंद्र सरकार ने गंगा नदी के प्रदूषण को समाप्त करने और नदी को पुनर्जीवित करने के लिए ‘नमामि गंगे’ नामक एक एकीकृत गंगा संरक्षण मिशन का शुभारंभ जुलाई 2014 में किया था। 
  • इस मिशन के शुरूआती लक्ष्य नदी की उपरी सतह की सफ़ाई , ठोस कचरे की समस्या का हल , शवदाह गृह का नवीकरण, आधुनिकीकरण और निर्माण , घाटों का निर्माण, मरम्मत और आधुनिकीकरण निर्धारित किए गए हैं।
  • हाल ही में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने नमामि गंगे परियोजना के बजट को 4 गुना करते हुए 2019-2020 तक नदी की सफाई पर 20,000 करोड़ रुपए खर्च करने की केंद्र सरकार की प्रस्तावित कार्य योजना को मंजूरी दे दी है और इसे 100% केंद्रीय हिस्सेदारी के साथ एक केंद्रीय योजना का रूप दिया गया है।
  • इसे केंद्रीय जलसंसाधन मंत्रालय, नदी विकास और गंगा कायाकल्प द्वारा कार्यान्वित किया जा रहा है।

गंगा नदी के बारे में

  • गंगा नदी भारत , नेपाल और बांग्लादेश में बहती है।  
  • इस की कुल लम्बाई 2525km तथा गंगा बेसिन का क्षेत्रफल 1.6 मिलियन km2  है।
  • भारत मे इसकी लंबाई 2071km है। देश के कुल जल स्रोत का 25.2% भाग अकेले गंगा नदी मे प्रवाहित होता है।
  • गंगा नदी 5 राज्यों उत्तराखंड ,झारखंड ,उत्तरप्रदेश ,पश्चिम बंगाल ,बिहार से होकर गुजरती है।
  • भागीरथी , अलकनन्दा , धौली गंगा, मन्दाकिनी , पिंडर  , यमुना, रामगंगा, घाघरा, गंडक, कोसी, महानदी और सोन गंगा की महत्त्वपूर्ण सहायक नदियाँ है।
  • ब्रह्मपुत्र नदी के गंगा मे मिल जाने के बाद बांग्‍लादेश में पद्मा नाम से जानी जाती है।
  • ऋग्वेद, महाभारत, रामायण एवं अनेक पुराणों में गंगा को पुण्य सलिला, पाप-नाशिनी, मोक्ष प्रदायिनी, सरित्श्रेष्ठा एवं महानदी कहा गया है।
  • गंगोत्री , पाँच प्रयाग और हरिद्वार आदि प्रमुख धार्मिक स्थल एवं भारत का सबसे प्राचीन शहर वाराणसी (बनारस/काशी) स्थित है। वाराणसी विश्व के प्राचीनतम शहरों में से एक और भारत का सबसे प्राचीनतम बसा हुआ शहर है।

Comments ( 9 )

  • VIKASH GATHALA

    Thanks

  • S.s.bishnoi

    All River’s missan

  • Priyanka bhargava

    Thanks

  • Rohit Suman

    Thanks

  • Surendra

    Superb

  • रविन्द्र कुमार

    आभार।…👌🖋🙏

  • Anonymous

    ganga m ek bactarea hai jo pani ko saaf karta hai ?

    • Bhawani S. Charan

      गंगा के पानी में बैक्टीरिया को खाने वाले बैक्टीरियोफ़ाज वायरस होते हैं. ये वायरस बैक्टीरिया की तादाद बढ़ते ही सक्रिय होते हैं और बैक्टीरिया को मारने के बाद फिर छिप जाते हैं।

  • Bhanwar lal

    very very supp.

Give a comment

In light of Pandameic COVID-19, we are offering ONLINE CLASSES for students from 20TH of MARCH onwards. DOWNLOAD NOW
+