राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग : 26वां स्थापना दिवस

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग : 26वां स्थापना दिवस

चर्चा में क्यों ?

  • 12 अक्टूबर को राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (National Human Rights Commission) का 26 वां  स्थापना दिवस मनाया गया।
  • केंद्रीय गृह मंत्री ( अमित शाह ) ने सभी हित धारकों से मानवाधिकारों के प्रति एक ‘भारतीय दृष्टिकोण’ रखते हुए अधिकारों के उल्लंघन को उजागर करने और शोध के आधार पर मानवाधिकारों की रक्षा के लिए सरकार का मार्गदर्शन करने की अपील की।

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के बारे में –

  • राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (National Human Rights Commission) की स्थापना ‘मानवाधिकार सरंक्षण अधिनियम 1993’ के तहत 12 अक्टूबर 1993 को की गई थी।
  • राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग का गठन पेरिस सिद्धांतों के अनुरूप है। इस सिद्धान्त को 20 दिसम्बर, 1993 को  संयुक्त राष्ट्र महासभा ने मानव अधिकारों के सरंक्षण हेतु अपनाया  गया था।
  • भारत का राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (NHRC) एक स्वायत्त विधिक संस्था है। इसका मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है।
  • NHRC में एक अध्यक्ष , चार पूर्णकालिन सदस्य और चार पदेन सदस्य होते हैं। इनकी नियुक्ति राष्ट्रपति द्वारा प्रधानमंन्त्री की अध्यक्षता में गठित 6 सदस्यीय समिति की सिफारिशों के आधार पर की  जाती है। समिति में प्रधानमंत्री, गृह मंत्री, लोकसभा अध्यक्ष, लोकसभा विपक्ष का नेता, राज्यसभा का उपसभापति, राज्यसभा विपक्ष का नेता सदस्य होते हैं।
  • अध्यक्ष – सर्वोच्च न्यायालय का कोई सेवानिवर्त न्यायाधीश होता है।
  • 4 पूर्णकालिक सदस्य –
  • एक सदस्य- सर्वोच्च न्यायालय का न्यायाधीश रह चुका हो।
  • एक सदस्य-उच्च न्यायालय में न्यायाधीश रह चुका हो।
  • दो अन्य सदस्य- मानवाधिकारों के विशेषज्ञ हो । जिसमें एक महिला हो
  • 4 पदेन सदस्य –
  • सदस्य राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष
  • राष्ट्रीय महिला आयोग के अध्यक्ष
  • राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष
  • राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष
  • कार्यकाल – 5 वर्ष या 70 वर्ष जो भी पहले हो।
  • NHRC देश में मानवाधिकारों का सजग प्रहरी है। यह आयोग मानवाधिकारों के संरक्षण एवं संवर्द्धन के प्रति भारत की चिंता का प्रतीक अथवा संवाहक है।  
  • वर्तमान में मानवाधिकार के क्षेत्र में विश्व स्तर पर कई बड़ी चुनौतियां हैं, जिनमें सबसे बड़ी चुनौती गरीबी, हिंसा का बढ़ता स्तर, आतंकवाद और नक्सलवाद हैं।
  • भारत में मानवाधिकार के सभी हित धारक, जैसे कि सरकार, संसद, न्यायपालिका, मीडिया, सिविल सोसाइटी, आदि सब को गरीबी उन्मूलन के लिए कार्य करना अत्यंत आवश्यक है।
  • राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग को अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संस्थानों द्वारा हाल ही में ‘ए’ स्टेटस प्रदान किया गया है।
  • एनएचआरसी के वर्तमान अध्यक्ष सर्वोच्च न्यायालय के पूर्व मुख्य न्यायाधीश एच. एल. दत्तू है।

मानवाधिकार सरंक्षण (संशोधन) विधेयक 2019 –

  • राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग को अधिक समावेशी और सक्षम बनाने हेतु लोकसभा ने मानव अधिकार संरक्षण (संशोधन) विधेयक, 2019 [The Protection of Human Rights (Amendment) Bill] जुलाई, 2019 को पारित किया गया है।
  • मानवाधिकार संरक्षण (संशोधन) विधेयक, 2019  मानवाधिकार संरक्षण एक्ट, 1993  में संशोधन करता है।
  • मानवाधिकार संरक्षण (संशोधन) विधेयक, 2019  में निम्नलिखित प्रावधान किये गए हैं  –
  • भारत के मुख्य न्यायाधीश के अतिरिक्त किसी ऐसे व्यक्ति को भी आयोग के अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया जा सकता है, जो उच्चतम न्यायालय का न्यायाधीश रहा हो।
  • मानवाधिकार आयोग में राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग के अध्यक्ष, राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग के अध्यक्ष और दिव्यांगजनों संबंधी मुख्य आयुक्त को भी सदस्यों के रूप में सम्मिलित किया जा सकेगा।
  • राष्ट्रीय और राज्य मानवाधिकार आयोगों के अध्यक्षों और सदस्यों के कार्यकाल की अवधि को 5 वर्ष से कम करके 3 वर्ष किया जाएगा और वे पुनर्नियुक्ति के भी पात्र होंगे।
  • राज्य मानवाधिकार आयोग के सदस्यों की संख्या को बढ़ाकर 2 से 3 किया जाएगा, जिसमे एक महिला सदस्य भी होगी।
  • राज्य मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष के पद पर  उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के अलावा सेवरत अन्य न्यायाधीश भी नियुक्त किए जा सकते हैं।

पेरिस सिद्धांत (Paris Principles) –

  • 20 दिसंबर, 1993 को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने मानव अधिकारों के संरक्षण हेतु पेरिस सिद्धांतों को अपनाया था।
  • इसने दुनिया के सभी देशों को राष्ट्रीय मानवाधिकार संस्थाएँ स्थापित करने के लिये निर्देश दिये थे।
  • पेरिस सिद्धांतों के अनुसार, मानवाधिकार आयोग एक स्वायत्त एवं स्वतंत्र संस्था होगी।

Comments ( 4 )

  • Naresh

    Thanku utkarsh team

    • NARESH BAMNIYA

      THANQ
      …..

  • Suresh Kumar dewasi

    Thanks Utkarsh team for providing important news

  • JUGAL KISHOR SONI

    Thank you Sir Ji
    God bless you

Give a comment

In light of Pandameic COVID-19, we are offering ONLINE CLASSES for students from 20TH of MARCH onwards. DOWNLOAD NOW
+