विश्व बैंक ने अमरावती परियोजना की वित्तीय सहायता रोकी

विश्व बैंक ने अमरावती परियोजना की वित्तीय सहायता रोकी

क्या है खबर?

हाल ही में विश्व बैंक ने आंध्र प्रदेश की राजधानी अमरावती के विकास हेतु ‘अमरावती संधारणीय
आधारभूत एवं संस्थागत विकास परियोजना’ के तहत् 300 मिलियन डॉलर के ऋण की सहायता को रोक दिया है।

क्यों रोक दी गई सहायता?

  • विश्व बैंक का कहना है कि भारत सरकार द्वारा इस परियोजना को वित्तीय सहायता प्रदान करने की याचिका को वापस ले लिया गया है।
  • भारत सरकार द्वारा इस याचिका को 15 जुलाई, 2019 को वापस ले लिया गया है।
  • विश्व बैंक के कार्यकारी निदेशकों के बोर्ड के अनुसार भारत सरकार की प्राथमिकता के अन्तर्गत कार्यरत नहीं है।
  • हालांकि विश्व बैक आंध्र प्रदेश के स्वास्थ्य, कृषि, ऊर्जा तथा आपातकालीन प्रबंधन के विकास के लिए वह 1 अरब डॉलर की वित्तीय मदद को जारी रखेगा।
  • विश्व बैंक को इस प्रोजेक्ट से संबंधित शिकायत भी प्राप्त हुई थी जिसमें किसानों की उर्वर भूमि को जबरन अधिकृत करने तथा कई पर्यावरणीय नियमों के उल्लंघन को बताया गया था।
  • इन शिकायतों की जाँच के लिए विश्व बैंक ने एक समिति का गठन किया था तथा समिति के अध्ययन के आधार पर राज्य सरकार को मेल भी किया था किन्तु नई सरकार के बनने के कारण उसका जवाब नहीं दिया गया तो हो सकता है कि इस वजह से भी विश्व बैंक में वित्तीय सहायता को रोक दिया हो।

केन्द्र सरकार द्वारा याचिका वापस लेने के क्या कारण हो सकते हैं?

  • चन्द्रबाबू नायडू सरकार द्वारा राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन से समर्थन वापस लेना एक कारण हो सकता है हालांकि इसकी संभावना कम है।
  • इस परियोजना की संविदाओं में अनियमितता पाई गई हैं जिसने केन्द्र सरकार को याचिका वापस लेने के लिए विवश किया।
  • भूमि अधिगृहण, पर्यावरण की क्षति, कृष्णा नदी के प्रवाह क्षेत्र में आने तथा पर्यावरणीय स्वीकृति में भी अनियमितताएँ प्रतीत होती हैं।

अमरावती

  • अमरावती वर्तमान आंध्र प्रदेश की राजधानी है तेलंगाना के विभाजन के पश्चात् (2014) इसे राजधानी बनाया गया।
  • इस शहर का विकास कृष्णा नदी के दक्षिणी किनारे पर होना है जिसका क्षेत्रफल 217 वर्ग किमी. होगा इसे रिवरफ्रंट के साथ डिजाइन किया गया है जिसका क्षेत्रफल 51% वन तथा 10% जलीय संरचना के लिए होगा।
  • इसका उद्घाटन 22 अक्टूबर, 2015 को भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा किया गया था।
  • अमरावती नाम सातवाहन साम्राज्य की राजधानी अमरावती गाँव से लिया गया है।
  • अमरावती का जब तक निर्माण नहीं हो जाता तब तक हैदराबाद आंध्र प्रदेश की राजधानी के रूप में कार्य करता रहेगा क्योंकि 2014 में विभाजन के बाद आंध्र प्रदेश तथा तेलंगाना की संयुक्त राजधानी के रूप में 10 साल के लिए हैदराबाद को रखा था।
  • आंध्र प्रदेश पुनर्निर्माण अधिनियम 2014 में तेलंगाना का निर्माण हुआ था तथा आंध्र प्रदेश की राजधानी हैदराबाद तेलंगाना के हिस्से में चली गई थी।

No Comments

Comments are closed.

In light of Pandameic COVID-19, we are offering ONLINE CLASSES for students from 20TH of MARCH onwards. DOWNLOAD NOW
+