महिला पुलिस कर्मियों हेतु रक्षात्मक बॉडी गियर

महिला पुलिस कर्मियों हेतु रक्षात्मक बॉडी गियर

क्या है खबर?

महिला पुलिसकर्मियों की सुरक्षा हेतु DIPAS (डिफेंस इंस्टीट्यूट ऑफ फिजियोलॉजी एण्ड अलाइड साइंस) ने रक्षात्मक बॉडी गियर विकसित किया है।

क्या है रक्षात्मक बॉडी गियर?

  • यह एक प्रकार का सूट है जिससे महिला के अंगों को सुरक्षित किया जा सकता है।
  • इसका विकास DIPAS द्वारा किया गया है जो कि रक्षा अनुसंधान विकास संगठन (DRDO) की एक यूनिट है।
  • यह बॉडी गियर महिलाओं के संवेदनशील हिस्सों यथा रिब केज (Rib cage), कंधों, जांघों तथा अन्य संवेदनशील हिस्सों का शोल्डर पैड, फ्रंट एव बैक शील्ड आदि से सुरक्षित करेगा।
  • इसको डिजाइन करने में एन्थ्रोपोमेट्रिक (Anthropometric) डाटा का इस्तेमाल किया गया है ताकि महिलाओं के संवेदनशील अंगों को सुरक्षित किया जा सके।
  • रक्षात्मक गियर पर नुकीली चीजों और किसी रसायन का प्रभाव नहीं होगा इसके लिए इसके प्रोटोटाइप का टेस्ट किया जा चुका है।
  • इसको सर्वप्रथम 2016 में राष्ट्रीय महिला कांन्फ्रेंस में प्रदर्शित किया गया था।
  • यह विभिन्न साइजों में उपलब्ध होगा इसमें वही मटेरियल का उपयोग किया गया है जो पुरुषों के बॉडी गियर में उपयोग किया जाता है।
  • इन रक्षात्मक बॉडी गियर का भार लगभग 6 किलोग्राम है।

क्या आवश्यकता है महिला रक्षात्मक बॉडी गियर की?

  • पूर्व में CRPF तथा अन्य पुलिस फोर्सों में कार्यरत महिलाओं के लिए बॉडी गियर उपलब्ध नहीं थे जिससे महिलाओं को बॉडी गियर पहनकर समस्या का सामना करना पड़ता था।
  • ये बॉडी गियर महिलाओं को फिट नहीं होते थें और ये पुरुष आकृति के अनुसार निर्मित होते थें इसीलिए महिलाओं के संवेदनशील हिस्सों को सुरक्षित नहीं कर
    पाते थें।
  • जम्मू-कश्मीर जैसे क्षेत्रों में CRPF की लगभग 300 महिलाएँ तैनात है जहाँ उन्हें पत्थरबाजों को नियंत्रित करना होता है जहाँ ये बॉडीगियर उन्हें अच्छी सुरक्षा प्रदान कर सकते हैं।

No Comments

Comments are closed.

In light of Pandameic COVID-19, we are offering ONLINE CLASSES for students from 20TH of MARCH onwards. DOWNLOAD NOW
+