खसरा उन्मूलन और विश्व

खसरा उन्मूलन और विश्व

क्या है खबर?

हाल ही में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भारत के पड़ोसी देश श्रीलंका को खसरा मुक्त देश घोषित किया है।

क्या है खसरा?

  • खसरा श्वसन प्रणाली में विषाणु विशेष रूप से मोर्बिली वायरस के जीन्स के पैरा मिम्सोवायरस के संक्रमण से होता है।
  • यह एक संक्रामक बीमारी है यह किसी संक्रमित प्राणी के संक्रमित लार या श्लेष्म के संपर्क में आने से फैलती है।
  • इससे संक्रमित व्यक्ति संवेदनशील होता है यह व्यक्ति को इंसेफेलाइटिस, डिहाइड्रेशन, डायरिया, निमोनिया, दृष्टिहीनता की ओर ले जाती है।
  • खसरे का टीका उपलब्ध है जिससे इसे रोका जा सकता है।2017 में खसरे से एक लाख से भी ज्यादा लोगों की मृत्यु हुई थी (विश्व में)।
  • रूबेला को जर्मन खसरा कहते है जो मुख्यत: गर्भवती स्त्रियों को प्रभावित करता है।
  • यदि कोई गर्भवती स्त्री रूबेला से संक्रमित है तो उसके बच्चे तक संक्रमण पहुँचने की 90% संभावनाएँ होती है।

कैसे हुआ श्रीलंका खसरा मुक्त?

  • वैश्विक खसरा टीकाकरण कवरेज प्रथम डोज का 85% तथा द्वितीय डोज का 67% है वहीं श्रीलंका में दोनों डोज का 95% कवरेज है।
  • वैश्विक खसरा टीकाकरण में दोनों डोज के बीच काफी अंतर है जबकि श्रीलंका में अंतर नहीं है इसीलिए खसरे को पुन: उभरने का मौका नहीं मिलता।
  • श्रीलंका ने ज्यादा तीव्र तरीके से इसके टीकाकरण के अभियान चलाए।
  • श्रीलंका ने मजबूत तंत्र स्थापित किया ताकि बिना टीकाकरण के काेई बच्चे न बच सके इस टीकाकरण में खसरा भी शामिल है।
  • श्रीलंका दक्षिण एशिया का पाँचवा देश है जिसे विश्व स्वास्थ्य संगठन ने खसरा मुक्त घोषित किया है। इससे पहले भूटान, उत्तर कोरिया, मालदव व तिमोर
    लेत्से खसरा मुक्त घोषित हो चुके हैं।

भारत में खसरे की स्थिति

  • भारत में खसरा तथा रूबेला खसरा का टीकाकरण सार्वभौमिक टीकाकरण अभियान के तहत किया जा रहा है।
  • भारत का लक्ष्य 2020 तक खसरे का उन्मूलन करना है।
  • वैश्विक खसरा और रूबेला अपडेट के अनुसार भारत में अप्रैल, 2018 से अप्रैल, 2019 के मध्य 48,000 से भी ज्यादा संक्रमित लोग रिपोर्ट किए गए है जिसमंे खसरे के 47056 केस थे रूबेला के 1263 केस थे।
  • भारत में खसरा रूबेला अभियान की शुरूआत फरवरी, 2017 से हुई जिसके तहत् 135 मिलियन बच्चों को टीकाकृत किया गया है।
  • 1960 से भारत के पास खसरे का टीका है फिर भी भारत खसरे से संक्रमित लोग विश्व का 36% हिस्सा रखते हैं

No Comments

Give a comment

In light of Pandameic COVID-19, we are offering ONLINE CLASSES for students from 20TH of MARCH onwards. DOWNLOAD NOW
+